हिंदी ब्लॉग को search engine में rank करने तरिके

How to Rank Your Hindi Blog on Search Engine – Google पर अपने हिंदी ब्लॉग को रैंक कैसे करें?

दोस्तों अगर आप एक हिंदी ब्लॉगर है और हिंदी ब्लॉग्गिंग में अपना carrier बनाना चाहते है तो ये सुनिश्चित करे के आपकी रूचि क्या किस फील्ड में आपको नॉलेज है.  उसी में अपना ब्लॉग स्टार्ट करे. 

अगर आप अपना हिंदी ब्लॉग को सर्च इंजन पर रैंक करवाना चाहते है तो ये कोइ मुश्किल काम नही है पर उसके लिए कुछ जरुरी बाते  है जो आपको ध्यान रखनी पड़ेगी। 

एक ब्लॉगर के दिल में हमेशा आपकी blog/website को search engine पर top पर रैंक करने की एक ही इच्छा होती है।

आपने शायद बहुत सारे वीडियो और ब्लॉग पोस्ट देखे होंगे। सभी लोगों ने अपने विचार व्यक्त किए। आज की पोस्ट में, मैं आपके ब्लॉग पोस्ट को Google पर शीर्ष स्थान पर रखने के लिए बहुत सारे अनूठे टिप्स प्रदान करूंगा।

Google पर किसी साइट को रैंक करना इतना आसान नहीं है, साइट को शीर्ष स्थान पर लाने के लिए आपको बहुत मेहनत, धैर्य और स्मार्ट वर्क करने की आवश्यकता है।

किसी वेबसाइट की रैंकिंग उसके ऑनपेज, ऑफपेज, content और डोमेन उम्र पर निर्भर करती है।

आइये step by step discuss करते हैं और जानते है के कौन कौन सी बाते है जो हमाये  मदद करती है.  

Blog को Search इंजन में Rank कैसे करे/सही तरीका

अभी में आपके साथ जो भी टिप और ट्रिक्स शेयर करूंगा उन सबको अपने ध्यान से समझना है और अपनी Blog/Website और अपने YouTube Channel पर अचे से इम्प्लीमेंट करना है, definitely आपका Blog/Website और अपने YouTube रैंक करेगा। और आप अचे पैसे कमा सकते हैं. 

1) Make High Quality Content

Hindi Blogging, Online Marketing, SEO, SMO, Digital Marketing में “Content is the king“.  

अगर आपका कंटेंट दमदार है तो कोई भी ताकत आपको सर्च इंजन आर्गेनिक रिजल्ट पर टॉप पर आने से नहीं रोक सकती है. 

Blog का पहला नियम है की आप हमेशा High Quality Content Create करें।

उच्च गुणवत्ता वाली सामग्री का मतलब है कि आपको सभी प्रासंगिक जानकारी के साथ एक लेख लिखना होगा।

आपका article बिलकुल Unique होना चाहिए. एक अनोखे लेख का मतलब है कि आपको लोगो के सामने कई तरह से अपनी राय रखनी होगी।

आपकी छवि पूरी तरह से अनूठी और आविष्कारशील होनी चाहिए।

इस पूरी बात का निचोड़ बस ये है की आप क्वालिटी कंटेंट लिकयेगये और वपणी वेबसाइट पर अपलोड करएंगे तो यूजर आपकी साइट पर टाइम स्पेंड करेगा। नहीं तो वो किसी और ब्लॉग वेबसाइट पर चला जायेगा।

2) Competitor Analysis
कंटेंट के बाद एक और हथियार है जो आपको रैंक करने में बहुत मादा करेगा वो है, Competitor Analysis. 

Competitor Analysis से मेरा मत है अपने competitor की activity पर ध्यान रखना,  strategy फॉलो कर रहा है उसका कंटेंट किस तरह का है, कंटेंट की लेंथ कितनी है, हाइपरटेक्स्ट कितने दिए है, इमेजेज कितनी लगाए है. कितने बैकलिंक्स है कोण कोण सी वेब्सीटेस पर बैकलिंक्स बनाये है  बातो पर ध्यान रखना है. 

किसी प्रतियोगी की अच्छी समझ से ही आप उसका मुकाबला कर पाएंगे। एक प्रतियोगी का विश्लेषण करने के लिए, आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होगा।

विषय पर कितनी जानकारी प्रदान की गई और कौन सी जानकारी छोड़ी गई।

आपको इन सब बातों को ध्यान में रखकर अपना रिकॉर्ड बनाना होगा।

Competitor Analysis YouTube Tutorial/Video देखें हिंदी.

 

3) Make Quality Backlinks

अपनी ब्लॉग website को गूगल पर Top में Rank करवाने का एक और रामबाण हथियार Competitor Backlinks को चेक करना क उसने खान खान और कोण  सी वेबसाइट पर अपने बैकलिंक्स बनाये है.

आपको हमेशा अपने competitor की backlinks को Analyses करना चाहिए और उसको search engine पर Beat करने के लिए आपको उससे ज्यादा और quality backlinks बनानी चाहिए।

आपकी backlinks जितनी ज्यादा high quality की होगा, उतने ही ज्यादा chance है की अपनी वेबसाइट रैंक हो और आपको ाचा ट्रैफिक मिले।

4) On-Page SEO

किसी वेबसाइट की रैंकिंग निर्धारित करने में वेबसाइट का SEO एक बड़ा कारक होता है। Google आपकी साइट की सामग्री को केवल On-Page SEO के द्वारा ही समझ सकता है। यह किसी भी वेबसाइट की सामग्री की प्रस्तुति है। जो उपयोगकर्ता को प्रदर्शित किया जाता है।

यदि आपकी प्रस्तुति सही है, तो यह आपके उपयोगकर्ता को आकर्षित करती है और अधिक से अधिक उपयोगकर्ता साइट पर आते हैं, जो एक कारक है।

ऑनपेज एसईओ में, आप मुख्य रूप से कीवर्ड प्लेसमेंट और कीवर्ड घनत्व की परवाह करते हैं।

जहां Google आपकी सामग्री को समझता है, वहां आपको बहुत सावधानी बरतने की आवश्यकता है।

आप अपनी वेबसाइट पर जितना बेहतर SEO पेज पर प्रदर्शन करेंगे, आपकी साइट उतनी ही तेजी से Google के शीर्ष पर पहुंचेगी।

5) Improve Website Loading Speed

Google समय-समय पर नए अपडेट जारी करता है, और नवीनतम अपडेट के आधार पर अपलोड गति वर्तमान में एक प्रमुख रैंकिंग कारक है। अगर आपकी साइट की स्पीड 0 से 0.25 के बीच बिक रही है, तो रैंकिंग मदद करेगी।

आपकी साइट की रैंकिंग का मुख्य आधार आपकी साइट की गति होगी।

इसलिए आपको लगातार अपने मोबाइल और डेस्कटॉप पर अपनी वेबसाइट की स्पीड का विश्लेषण करते रहना चाहिए।

यदि आपकी गति कम है, तो आपकी साइट भविष्य में निम्न रैंक करेगी।

इसलिए आपको अपनी वेबसाइट की स्पीड पर नजर रखनी चाहिए और स्लोडाउन के कारण को समझना चाहिए और उसमें सुधार करना चाहिए।

6) Mobile Friendly Template

यह बहुत जरूरी है कि आपका ब्लॉग/वेबसाइट मोबाइल फ्रेंडली हो। मोबाइल के लिए इसे अनुकूलित करने के लिए आपको एक अच्छी थीम/टेम्पलेट का उपयोग करने की आवश्यकता है।

क्योंकि यदि आपकी साइट मोबाइल के अनुकूल नहीं है, तो उपयोगकर्ता को सबसे अच्छा अनुभव नहीं मिलेगा और वह आपकी साइट पर बहुत समय व्यतीत करेगा।

यदि आप बहुत अधिक समय नहीं लगाते हैं, तो आपकी साइट की बाउंस दर बढ़ जाएगी और आपकी साइट की रैंकिंग घट जाएगी।

इसलिए मेरा लक्ष्य अपनी वेबसाइट को मोबाइल बनाना है।

7) Interlinking और External Linking 

Interlinking/External Linking आपको वेबसाइट के लिए बहुत ही बढ़िया Ranking Factor है जिसके माध्यम से आपकी website की Ranking 100% Improve हो जाती है।

आपको पहले यह observe करना है की आपकी कोनसी website का कोनसा page Google पर top पर Rank कर रहा है।

अब आपको उस page के अंदर अपने internal Linking बनानी है। आप कुछ समय बाद देखना आपके उस page के साथ अपने जितने भी internal links बनाए है

अगर आप external linking कर रहे है तो आपको  रखना पड़ेगा की कोण सी वेबसाइट कोण से कीवर्ड पर रैंक क्र रही है और अगर उसका Domain Authority और Page Authority अछि है तो आपको उससे लिंक लेना चाइये और उसका लिंक देना चाइये। 

ये आपको और आपकी वेबसाइट को रैंक करने में मदद करेगा.

Interlinking/External Linking difference और अपनी वेबसाइट के लिए कैसे लिंक बनाये निचे दी गए वीडियो में पूरी जानकारी दी गए है, पूरी वीडियो ध्यान से देखे –

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *