800 साल पुराना हाथी खुंड, लोगों को मिलता है धन - Elephant Pole in Mihada, Himachal

800 साल पुराना हाथी खुंड, लोगों को मिलता है धन – Elephant Pole in Mihada, Himachal

[ https://www.jagran.com/ ] में एक आर्टिकल छपा है जिस्मे बताया गया की हिमाचल प्रदेश के जिला बिलासपुर के भरारी उपतहसील के अंतर्गत आने बाले ग्राम मिहाड़ा में हाथियों को बांधने का एक पोल है [ Elephant Pole in Mihada, Himachal  ] जिसको लोकल भाषा में खुंड कहते है, 800 साल पुराना है.

Himachal News: जिस समय यहां पर रुण्ड का राज होता था, तो बो इलाके में घूमते समय यहां पर विश्राम करते थे और अपने हाथियों को उससे बांधते थे. यह सदियों से ऐसी ही अवस्था में देखा जा रहा है। यह पूरी तरह से चट्टानी पत्थर से बना हुआ है और इसके ऊपर हाथी की चेन की रगड़ से निशान बने हुए हैं । यह कई दशकों से ऐसे ही इस पत्थर के ऊपर नजर आते हैं, जो कि काफी बड़ा दिखता है । स्थानीय लोगों के अनुसार यहां हाथी के बांधने से निशान पड़ा हुआ है ।

यहां के स्थानीय निवाशियो के अनुसार यहां पर लोगो को धन मिलता रहता है.यहां के लोगो की पौराणिक मान्यताओं के अनुसार जो यहां से गुजरता है वो इसके ऊपर पथर फेखना होता है.

जब हम इस मामले की जानकारी लेने हिमाचल प्रदेश के जिला बिलासपुर, की उपतहसील भरारी के मिहाडा ग्राम में पहुंचे तो हमने यहां की स्थानीय निवासियों से इसके बारे में पूछा।

मिहाड़ा गांव के 95 वर्षीय श्री जोगीराम शर्मा से बात करके जो सामने आया: उन्होंने बताया कि करीब 800 साल पहले रुण्डो का राज हुआ करता था और उनके नियमो का पालन किया जाता था। वे यहां रहते थे और वह वहां हाथी की सवारी करते थे। यहां हाथी को बांधा जाता था। इस वजह से इसे हाथी खुंड कहा जाता था, और उस चाटन पर जो निशान है वह हाथी से जुड़ी हुई जंजीर के है.

jogi ram mihara himachal

उन्होंने बताया की यहां साहूकार लोगों को यहां पर काफी धन मिला था। यहां पर रुण्डो के द्वारा ही धन दवाया हुआ है. इससे प्रतीत होता है कि वह किसी बड़े राजवंश के लोग हुआ करते थे।

जोगी राम जी ने ये भी बताया के हल ही में 4 – 5 साल पहले गादी यहां बकरिया चराने आये हुए थे तो उनको यहां पर एक धातु का पात्र मिला था जिसमे सवर्ण स्वर्णमुद्रिकाये और कुछ पुराने पैसे भी थे.

हमारी तप्तीश में ये पता चला की ये रिपोर्ट बिलकुल सच है.

हमारे जरिये लोगो ने सरकार से ये गुहार लगाए है के इस ऐतिहासिक धरोहर को संभाल कर रखने के लिए कुछ परयतन करे ताकि आने बलि पीडियो को इसके बारे में पता लग सके. हमारे इतिहास में चीजों को जोड़ा जाये ताकि लोगो को इसके बारे में जानकारी हो.

अगर सरकार ऐसी ऐतिहासिक चीजों को संभाले में प्रयास करती है तो ें चीजों से हिमाचल में पर्यटन और भी बढ़ जायेगा। जिससे लोगो को रोजगार के अवसर बढ़ सकते है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *